Sensex Meaning in Hindi

What is Sensex Meaning in Hindi, Sensex Meaning in Hindi, Sensex definition in Hindi, Sensex Ka Meaning Kya Hai, Sensex Kya Hai, Sensex Ka Kya Matlab Hota Hai, Meaning and Definitions of Sensex in Hindi.

एक निवेशक के लिए सेंसेक्स अर्थ, सेंसेक्स क्या है, गणना कैसे की जाती है जैसी बुनियादी शब्दावली जानना बहुत जरूरी है. इसलिए, आइए हम इसके बारे में जानें और समझें।

Sensex का हिंदी मीनिंग; संवेदनशील सूचकांक, महत्वपूर्ण सूचकांक, आदि होता है।

Sensex की हिंदी में परिभाषा और अर्थ, सेंसेक्स एक प्रकार का सूचकांक है, और इसको आमतौर पर लोग Stock Exchange Sensitive Index के नाम से जानते है. सेंसेक्स India का सबसे पुराना Stock Market Index है, आपकी जानकारी के लिए बात दे की इसकी शुरुआत वर्ष 1986 में हुई थी, अगर हम बात करे इसके काम की तो सेंसेक्स Bombay Stock Exchange के शेयर्स के भाव में होने वाली तेजी और मंदी को बताता है, सेंसेक्स के अन्दर लगभग 30 कम्पनियां आती है. सेंसेक्स का मुख्य काम इसके अन्दर आने वाली कंपनी के शेयर्स में आये उतार-चढ़ाव पर नजर रखता है. यह आज के समय में Indian GDP का कुल 37% है।

Sensex Definition in Hindi

सेंसेक्स भारत देश के एक बहुत ही खूबसूरत शहर मुंबई में स्थित शेयर बाज़ार S&P BSE का सूचकांक है. BSE का फुल फॉर्म Bombay Stock Exchange होती है. जबकि SensEx Sensitive IndEx से मिलकर बना है. आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे की Sensitive Index का अर्थ संवेदी सूचकांक सेंसेक्स होता है. जैसा की हम सभी जानते है, आज के समय में मुंबई शेयर बाजार में रजिस्टर्ड और मार्केट कैप के हिसाब सबसे 30 बड़ी कंपनियों को ही इंडेक्स किया जाता है. अगर हम और सरल शब्दों में कहे तो सेंसेक्स के घटने बढ़ने से ये पता चलता है, की देश की बड़ी कंपनियों को profit हो रहा है या loss हो रहा है. सेंसेक्स की शुरुआत 1 जनवरी, 1986 से हुयी थी, इसमें जो 30 कंपनियां को शामिल किया गया है, और यह कंपनियां समय के साथ बदलती रहती है, इन तीस कंपनियों को चुनने के लिए एक Committee बनाई गयी है, 30 कंपनियों को इंडेक्स करने के कारण इसे Bombay Stock Exchange 30 के नाम से भी जानते है।

किसी भी listed company को Index में शामिल होने के लिए ‘BSE’ की 100 Market कैप वाली Companies में से एक होना चाहिए, और उसका कुल Market कैप BSE के कुल Market का 0.5% से ज्यादा होना चाहिए. किसी भी सूचीबद्ध कंपनी को Index में शामिल होने के लिए ‘BSE’ की 100 Market कैप वाली Companies में से एक होना चाहिए, और उसका कुल Market cap BSE के कुल Market का 0.5% से ज्यादा होना चाहिए, भारत में मुख्यतः दो Exchange हैं पहला BSE(BOMBAY STOCK EXCHANGE) और दूसरा ‘NSE’(NATIONAL STOCK EXCHANGE) ‘SENSEX’ BSE के लिए और ‘NIFTY’ NSE के लिए जाना जाता है.‘SENSEX’ का आधार वर्ष 1 अप्रैल 1979 मानी जाती है. इसकी गणना 100 के रूप में लिया गया है, इसकी गिनती फ्री फ्लोट Market Capitalization विधि के आधार पर की जाती है. इस विधि के लिए BSE से सबसे Active 30 कंपनियों को लिया जाता है, और उसके बाद इन कंपनियों का ‘Free float market cap‘ निकाला जाता है।

Sensex कैसे Calculate होता है

तो जैसा कि आप जानते ही होंगे कि Calculation के लिए आधार वर्ष 1978-1979 से चुना गया है. दोस्तों उस समय सेंसेक्स का आधार मूल्य सिर्फ और सिर्फ 100 रुपय रखा गया था. Bombay Stock Exchange को पहली बार वर्ष 1986 में Calculate किया गया था, और 1 सितम्बर 2003 के बाद से Free Float Method से सेंसेक्स का Calculation किया जाने लगा है. Free Float Method(FFM) में कंपनी के जो भी Shares मौजूद रहते है उनको Public Trading के लिए हमेशा Available रखा जाता है, और इनमे से Goverment का हिस्सा अलग निकाल दिया जाता है, और जो Balance बचता है, उसको Market में Public Trading के लिए Available किया जाता है. इसे निचे दिए गए उदाहरण के जरिये समझें।

उदहारण- माना एक कंपनी A है, कंपनी के पास कुल Shares की संख्या 1000 है उसमे से 300 Share promoters के पास और 700 Shares पब्लिक के पास है. तो ये 700 Shares जो कि जनता के पास है फ्री फ्लोट शेयर्स कहलायेंगे|

Sensex Meaning Detail In Hindi

सेंसेक्स Sensitive Index यानि संवेदी सूचकांक का संक्षिप्त रूप है. Mumbai Stock Exchange का संवेदी सूचकांक जिसे संक्षेप में बीएसई 30 या बीएसई सेंसेक्स भी कहा जाता है. वहां के सर्वोच्च 30 शेयरों पर आधारित है. Sensex की तरह Nifty भी National Stock Exchange का सूचकांक है, और वहां के पचास शेयरों पर आधारित है।

Sensex शब्द की शुरुआत दीपक मोहोनि द्वारा की गयी थी. यह शब्द sensitive और index शब्दों से मिल कर बना हुआ है. इससे तात्पर्य है की यह संवेदी सूचकांक होता है. BSE उन शेयरों को तय करता है जिन्हें सेंसेक्स में सूचीबद्ध किया जाना है. सेंसेक्स पर सूचीबद्ध होने वाले स्टॉक को चुनने का मानदंड उस स्टॉक के व्यापार की मात्रा है, और BSE में स्टॉक की कुल मात्रा है. उपरोक्त कारकों के आधार पर, BSE नियमित रूप से 30 शेयरों का एक सेट तैयार करता है. जिसे एक साथ SENSEX कहा जाएगा। BTW सेंसेक्स का मतलब है संवेदनशील सूचकांक।

शब्द Sensex को एक शेयर बाजार विश्लेषक श्री दीपक मोहोनी द्वारा नामित किया गया था. यह शब्द संवेदनशील और सूचकांक का एक चित्र है. Sensex मुख्य रूप से एक सूचकांक है जो बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) को दर्शाता है जो 1875 में स्थापित हुआ. जनवरी 1, 1986 तक स्टॉक एक्सचेंज का कोई आधिकारिक सूचकांक नहीं था. यह वह समय था जब Sensex को भारतीय बाजार के प्रदर्शन को चुनने के लिए चुना गया था. Sensex में 30 प्रमुख स्टॉक शामिल हैं जो क्षेत्रों से प्राप्त होते हैं और एक्सचेंज मार्केट में सक्रिय रूप से कारोबार करते हैं. Sensex वास्तव में भारतीय शेयर बाजार के आंदोलन को दर्शाता है. यदि Sensex का मूल्य बढ़ता है, तो इसका मतलब है कि शेयरों की कीमतों में सामान्य वृद्धि होती है. जबकि, अगर Sensex घटता है तो इसका मतलब है कि शेयरों की कीमत में सामान्य कमी है।

आप एसएंडपी BSE Sensex के माध्यम से शेयर बाजार में आने वाले उछाल और हलचल की पहचान कर सकते हैं. 19 फरवरी, 2013 से BSE और एसएंडपी डॉव जोन्स इंडेक्स ने Sensex की गणना के लिए गठबंधन किया. निफ्टी भारत में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के लिए गणना की गई अन्य सूचकांक है।

Sensex में BSE पर 30 सबसे बड़े और सबसे अधिक सक्रिय रूप से कारोबार किए गए स्टॉक शामिल हैं. जो भारत की अर्थव्यवस्था का एक गेज प्रदान करता है. Sensex भारत के सबसे पुराने स्टॉक इंडेक्स में से एक है, निवेशकों द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था के समग्र विकास, विकास, उतार-चढ़ाव के विकास के लिए Sensex का उपयोग किया जाता है।

Other Related Post

  1. Product Meaning in Hindi

  2. Incredible Meaning in Hindi

  3. Propaganda Meaning in Hindi

  4. About Meaning in Hindi

  5. Entrepreneur Meaning in Hindi

  6. Police Meaning in Hindi

  7. Being Meaning in Hindi

  8. Whether Meaning in Hindi